व्हीकल स्क्रैप पॉलिसी क्या हैं ? – Vehicle Scrappage Policy in Hindi | Vehicle scrappage policy India 2021

0

Vehicle scrappage policy India 2021 , Vehicle Scrappage Policy in Hindi , Vehicle Scrappage Policy , Vehicle Scrappage Policy Kya Hai , Vehicle Scrappage Policy Kya Hota Hai , Vehicle Scrappage Policy Rules in Hindi , Benifits of Vehicle Scrappage Policy in Hindi

नई व्हीकल स्क्रैप पॉलिसी क्या है ? – Vehicle Scrappage Policy Kya Hai

स्क्रैपिंग का मतलब होता है , कि अगर आपकी गाड़ी 15 साल से ज्यादा पुरानी है तो आपकी गाड़ी को रद्द कर दिया जाएगा । आप उस गाड़ी को चला नहीं पाएंगे । अगर आप चलाएंगे तो आपके उपर अनेक तरह का जुर्माना लगाया जा सकता है , लेकिन हाल ही में बजट में इस पॉलिसी में कुछ बदलाव किए गए हैं । इन्ही बदलावों और आपके सवालों का जवाब हम नीचे देने की कोशिश कर रहे हैं ।

Vehicle Scrappage Policy in Hindi

Vehicle Scrappage Policy India 2021

पॉलिसी का नामव्हीकल स्क्रैप पॉलिसी  
मोटर व्हीकल एक्ट 2019 में सुधार 1 फरवरी 2021
पॉलिसी लागु कब होगी1 अप्रेल 2022

व्हीकल स्क्रैप पॉलिसी का फायदा क्या है ? – Benifits of Vehicle Scrappage Policy in Hindi

अगर देश में नई वाहन कबाड़नीति लागू की जाती है , तो देश को अनेक तरह के फायदे ही फायदे होंगे । ऑटोमोबाइल के क्षेत्र काफी समय से मंदी का सामना कर रहा है । ऐसे में Automobile Sector को मंदी से उबारने के लिए सरकार ने स्क्रैपिंग पॉलिसी में सुधार करने की कोशिश करी है , जो कि इस इस पॉलिसी के निम्न फायदे हैं जैसा कि नीचे दिए गए हैं :-

  • ऑटोमोबाइल्स मार्किट में तेजी आएगी ।
  • प्रदुषण कंट्रोल करने में मदद मिलेगी ।
  • वाहनों की दरो में कमी आएगी ।
  • प्रदूषण रहित वाहन अधिक होंगे ।
  • विनिर्माण में तेजी आएगी ।
  • भारत बड़ा मैन्युफैक्चरिंग हब बनेगा ।
  • भारत एक्सपोर्ट के मामले में अन्य देशों से आगे होगा ।
  • कबाड़ बनी गाड़ियों में से 55% स्टील निकाला जाएगा और इससे स्टील का उत्पादन बहुत ज्यादा बढ़ेगा ।

नई व्हीकल स्क्रैप पॉलिसी में क्या बदलाव हुआ है ?

स्क्रैपिंग पॉलिसी में हुए बदलाव हुए हैं जैसे कि अभी जो निजी वाहन 15 साल में स्क्रैप हो जाती थी , लेकिन अब यह रूल्स बदलकर 20 साल हो गया है । अब अगर आपका निजी वाहन है तो 20 साल तक आपके वाहन को स्क्रैप नहीं किया जाएगा । वही कमर्शियल वाहनों को 15 साल में स्क्रैप किया जाएगा । इसमें व्यक्ति अपना वाहन बेचकर नया वाहन खरीद सकता है , इसमें उन्हें काफी छूट भी दिलाई जाएगी, हालाँकि अभी सरकार ने इस प्रस्ताव को खुलकर पेश नहीं किया है ।

जो वाहन कबाड़ बनाए जायेंगे , उनसे जरूरी सामान जिनका उपयोग दुबारा किया जा सकता है , उन्हें निकाल लिया जाएगा । उन्ही सामान का उपयोग करके नई गाड़ियों का निर्माण किया जाएगा । निर्माण अगर सस्ता होगा तो भविष्य में लोगों को सस्ती गाड़ियाँ और वाहन मिलने के चांस ज्यादा होंगे । देश में विनिर्माण को बढ़ावा देना ही इस पॉलिसी का मुख्य मकसद है ।

व्हीकल स्क्रैप पॉलिसी में सुधार का विचार

पिछले पांच सालों से इस पॉलिसी में सुधार करने के विचार था , लेकिन कुछ बाधाओं की वजह से यह संभव नही हो पा रहा था , लेकिन इस बजट में इस पॉलिसी का जिक्र देखकर उम्मीद है 2022 में इस पॉलिसी के आधार पर देश को विकास की राह पर एक बार फिर लाया जाएगा । इस कदम से आने वाले दिनों में ऑटोमोबाइल्स उद्योग में काफी इजाफा होने के चांस है और देश में विनिर्माण बहुत तेजी से आगे बढ़ने की संभावना है ।

निष्कर्ष :-

हमने यहाँ पर व्हीकल स्क्रैपिंग पॉलिसी ( Vehicle Scrappage Policy in Hindi ) के बारें में विस्तार से बताया है । अगर आपको इस पॉलिसी से संबधित कोई प्रश्न पूछना है , तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं । हम बहुत जल्द ही आपके प्रश्न का जवाब देंगे । अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो , तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। धन्यवाद

FAQ’s

Q- क्या इस पॉलिसी के आधार पर हमारे वाहनों को जब्त किया जाएगा ?

Ans :- अगर आपका वाहन 15 साल पुराना है तो आपको उसका फिटनेस सर्टिफिकेट लेना होगा । नजदीकी फिटनेस सेंटर जाकर अपने निजी वाहन का फिटनेस सर्टिफिकेट लेना होगा ।

Q- नई व्हीकल स्क्रैपिंग पॉलिसी के तहत आने वाले समय देश में क्या बदलाव होगा ?

Ans :- देश में स्टील का उत्पादन बढ़ेगा और देश विनिर्माण की तरफ आगे बढ़ेगा ।

Q- नई पॉलिसी कब लागु होगी ?

Ans :- 1 अप्रेल 2022 से लागु होगा ।

Q- कमर्शियल व्हीकल कितने सालों तक वैध्य होगा ?

Ans :- 15 साल तक वैध्य होगा ।

Q- क्या पुराना वाहन देने के बदले सरकार की तरफ से कोई प्रोत्साहन राशि मिलेगी ?

Ans :- हाँ ।

Q- पुरानी गाड़ियों का क्या उपयोग होगा ?

Ans :- हमने उपर बताया है की कबाड़ के रूप में गाड़ियों को तोड़ा जाएगा एंव उससे जरूरी समान निकाला जाएगा , ताकि विनिर्माण में इनका उपयोग कर पायें ।