समय के महत्व पर निबंध – समय का सदुपयोग किस प्रकार करना चाहिए तथा विद्यार्थी जीवन में समय का क्या महत्व है | Essay on Value of Time in Hindi – Essay on Importance of Time in Hindi

Essay on Value of Time in Hindi , Essay on Importance of Time in Hindi , Value of Time , Important of Time , time ka mahatv , Essay On Importance Of Time in Student Life

Essay on Importance of Time in Hindi

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका कैरियर जानकारी में। दोस्तों आज के टॉपिक द्वारा हम आपको बताने वाले हैं समय की उपयोगिता या समय के महत्व के बारे में। समय जोकि समस्त संसार के मानव के लिए अमूल्य है, समय की तुलना किसी से नहीं की जा सकती। दोस्तों यदि आप समय के महत्व को बारीकी से समझना चाहते हैं तो आप हमारे लेख को पूरा पढ़िये, जिससे आप आगे समय की कीमत को समझ पाएँ और अपने जीवन को नया आयाम दें।

समय क्या है ? ( What is time)

समय दो घटनाओं के अंतराल को कहते हैं। समय एक वास्तविक घटना है जो हमेशा परिवर्तन की प्रक्रिया पर आधारित है। अर्थात यह कभी ना रुकने वाली प्रक्रिया है। समय की सबसे अधिक वस्त्विक्तता वर्तमान के समय में देख सकते हैं जैसे जो अभी समय गुजरा है वह भूतकाल था, तथा जो अभी समय चल रहा है जिसमें हम अपने सभी कार्य कर रहे हैं, चीजों को महसूस कर रहे हैं , वह वर्तमान काल है। तथा आगे जो भविष्य में कार्य होगा वह भविष्य काल है।

Essay on Importance of Time in Hindi

समय का दूसरा नाम जीवन या life है। प्रकति द्वारा मनुष्य को दिया गया अमूल्य उपहार समय है। हमारे जीवन में समय से ज्यादा महत्वपूर्ण और कोई भी चीज़ नहीं है। समय किसी का गुलाम नहीं है। समय स्वतन्त्र धारा प्रवाह नदी के समान धीरे – धीरे आगे बढ़ता रहता है। समय को बहुमूल्य कहा गया है क्योंकि बीते हुए समय को कोई भी शक्ति वापस नहीं ला सकती। समय एक ऐसी सम्पति है, जो हम सभी को जिंदगी के साथ मिली हुई प्राकृतिक वरदान है। इस धरती पर बांकी सभी सम्पति हम अपने मेहनत, ज्ञान और कर्मों के द्वारा अर्जित कर सकते है ।

लेकिन, हमें मेहनत, ज्ञान और कर्म को निरंतर करने के लिए भी समय चाहिये।समय एक ऐसी सम्पति है, जिसका हम अर्जन कभी कर ही नहीं सकते। अगर समय का कुछ कर सकते है तो वो है समय का संयोजन या समय का सदुपयोग जिसे Time Management कहते हैं। जो व्यक्ति समय का सही से उपयोग या Manage नहीं कर पाता, वह व्यक्ति अपनी जिंदगी में कभी भी सफल नहीं हो पाता।

स्वामी विवेकानंद जी के अनुसार

” एक समय में एक काम करो और ऐसा करते समय

अपनी पूरी आत्मा उसमें डाल दो

और बाकी सब कुछ भूल जाओ ”

(1) ” समय का आईना

कभी झूंठ नहीं बोलता । “

(2) ” जब समय का तमाचा पड़ता है ,

तो कोई फकीर तो कोई बादशाह बन जाता है। “

(3) ” समय मुफ्त में मिलता है, परंतु यह अनमोल है। आप इसे अपना नही सकते, लेकिन आप इसका उपयोग कर सकते हैं। आप इसे रख नही सकते, पर आप इसे खर्च कर सकते हैं। एक बार आपने इसे खो दिया, तो वापस कभी इसे पा नही पाएंगे। “

(4) ” जिंदगी बहुत छोटी है , उस पर ध्यान केंद्रित करें , जो आपके लिए सबसे अधिक मायने रखता है । समय के साथ साथ आपको अपनी प्राथमिकताएँ बदल लेनी चाहिए। “

समय का महत्व( Importance of time)

मनुष्य के जीवन में समय की महत्वपूर्ण भूमिका है। समय के साथ हमें अपने कार्यों को अनुशासन में करना चाहिए। समय के साथ यदि हम कदम से कदम नहीं मिला पाये तो समय हमें पीछे छोड़ कर आगे चला जायेगा। और हम समय के पीछे अर्थात दुनिया से पीछे रह जायेंगे। समय का सदुपयोग करना हमारे जीवन की उन्नति की कुंजी है। वह लोग जीवन में सफल बनते हैं जो समय का सही तरीके से प्रयोग करते हैं । तथा कामयाबी की ऊंचाइयों के शिखर को छूते हैं। यदि आप जीवन में अपने लक्ष्य को प्राप्त करना चाहते हैं तो सबसे पहले अपनी मूलभूत छोटी छोटी आदतों में सुधार लाने चाहिए , अर्थात समय के महत्व को ध्यान में रखते हुए अपनी प्राथमिकताएँ निर्धारित करें।

तथा कोई भी कार्य आगे के लिये पेंडिंग या कुछ समय बाद के लिए ना छोड़े, जो लक्ष्य निर्धारित किया है उसको तुरंत पूरा करें। क्योंकि समय का जितना उपयोग करेंगे उतना समय का वेल्यू बढ़ता जायेगा। समय का सही से सदुपयोग करने से हमारे अंदर सकरात्मक ऊर्जा , आत्मविश्वास और कार्य करने के प्रति उत्साह और बढ़ता है , और जीवन में सफलता की सीढ़ियों को आसानी से चढ़ता चला जाता है। और वहीं पर समय का दुरूपयोग करने से व्यक्ति के अंदर निगेटविटी, नाकामयाबी , और जीवन समस्याओं और निराशा से भरा रहता है।

समय के उपयोग से ज्यादा हमारी जिंदगी में महत्वपूर्ण और कुछ नहीं है । हमें जीवन सीमित मात्रा में मिला है और हम में से कोई भी उस मात्रा को कोई नहीं जानता। इसलिए हम अपना कोई भी कार्य करें उसको बेस्ट देने की कोशिश करें। यह दुनिया उसी की कद्र करती है जो समय की कद्र करता है। “Tomorrow Never comes ” कल कभी लौट के वापस नहीं आता। समय जीवन के हर स्तर में महत्वपूर्ण है चाहे आप छोटे हों या बड़े, जवान हो या बुढे। समय का उपयोग सभी को करना चाहिए। हमारी धरती पर कई महा पुरुष हुए हैं जिन्होंने समय का उपयोग करके बड़ी से बड़ी नीवें हिला दी। तभी वह इतिहास के पन्नों में आज भी जीवित हैं।

चाणक्य, स्वामी विवेकानंद जी, महात्मा गांधी, मदर टेरेसा, सुभाष चन्द्र बोस, भगत सिंह आआदि ऐसे महा पुरूष हैं जिन्होंने समय से आगे सोचा और युग परिवर्तन की क्रांति लाये अर्थात एक युग को नया स्वरूप दिया। इनके विचार आज भी सार्वभौमिक सत्य माने जाते हैं।

कबीर जी द्वारा कहा गया है कि

(1) “काल करै सो आज कर, आज करै सो अब ।

पल में परलय होएगी, बहुरि करैगा कब ।।”

” अब पछताए होत क्या, जब चिड़िया चुग गई खेत ।”

English में कहा गया है- “वर्क व्हाइल यू वर्क एण्ड प्ले व्हाइल यू प्ले, दिस इज द वे दू बी हैप्पी एण्ड डे” अर्थात् प्रत्येक दिन खुश रहने के लिए काम के समय काम करो एवं खेल के समय खेलो ।

समय का सदुपयोग

मानव को कभी भी व्यर्थ में समय नहीं गंवाना चाहिए। हमें हर पल कुछ ना कुछ सीखते रहना चाहिए। और खुश रहना चाहिए। समय गतिमान है। समय किसी की प्रतीक्षा नही करता। माँ प्रकति अपना कार्य समय के अनुसार करती है। इस पृथ्वी पर जितनी भी प्राकृतिक बदलाव समय – समय पर होते हैं, वह एक अनुशासन में वह समय के अनुसार होते हैं जैसे – प्रतिदिन सूर्य का सही समय पर उगना व सही समय पर अस्त होना, चंद्रमा का रात में गहरा दिखाई देना, वर्षा ऋतु, ग्रीष्म ऋतु, शीत ऋतु, बसंत ऋतु का एक निश्चित समय पर आना।

एक निश्चित समय पर पौधों का उगना इत्यादि अनेक प्राकृतिक चीजें सभी एक निश्चित समय पर होती हैं। अत: हमें भी प्रकति से सीख लेनी चाहिए। अपने समय को व्यर्थ गंवाने की अपेक्षा उस प्रत्येक क्षण का आनंद लेना चाहिए। आलस करने वाला मनुष्य कभी भी समय की महत्त्वता को नही समझ सकता। इसलिए आलस्य को त्यागकर जीवन को एक नया रूप देना चाहिए। सजग रहना सीखें समय के साथ।

इसलिए स्वामी विवेकानंद जी ने कहा है कि

” उठो, जागो और अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए निरंतर आगे बढ़ते रहो। “

विद्यार्थी जीवन में समय का महत्व ( Essay On Importance Of Time in Student Life )

विद्यार्थी जीवन में समय का सदुपयोग करना अति आवश्यक है क्योंकि एक अनुशासित जीवन की दिनचर्या की शुरुआत विद्यार्थी जीवन से ही होती है। विद्यार्थी उस कच्ची मिट्टी के समान है , उसे जिस साँचे में ढाला गया वह वैसा ही निखर कर आता है। यदि विद्यार्थी अनुशासन में रहता है और समय का सदुपयोग करता है तो वह अच्छा इंसान बनता है। वहीं दूसरा विद्यार्थी समय का दुरूपयोग जैसे व्यर्थ के खेल में , दोस्तों के साथ व्यर्थ में समय गंवाता है तथा टेलीविजन या मोबाइल फोन का अधिक प्रयोग कर व्यर्थ का समय गंवाता है तो उसे जीवन में पछताने के सिवाय कुछ हासिल नहीं होता।

समय अनमोल है। विद्यार्थियों को समय सारणी अवश्य बनानी चाहिए जिससे उनकी दिनचर्या डेली की व्यवस्थित हो जाती है । जीवन में व्यवस्था बहुत आवश्यक है। विद्यार्थी जीवन में बिना व्यवस्था के जीवन अस्त व्यस्त हो जाता है। और हम आत्मविश्वासी नहीं बन पाते हैं। आऔर कोई भी कार्य समय पर पूरा नहीं कर पाते। इसलिए विद्यार्थियों यही समय है खुद को तराशिये और समय के साथ कदम से कदम मिलाकर चलिये।

प्रत्येक पल हमें सदुपयोग करना चाहिए किसी ना किसी रूप में। यदि हम सभी काम निश्चित समय पर पूरा करते हैं तो सफलता हमारे एक दिन कदम चूमेगी, हमें सफलता के पीछे भागना नहीं पड़ेगा। हमें अपनी सुख सुविधा को त्याग कर एकाग्र चित होकर सिर्फ पढाई में ध्यान लगाना चाहिये।

दोस्तों यदि दी हुई जानकारी “Importance of time ” यदि पसंद आये तो दोस्तों इस लेख को शेयर और लाइक जरूर करें।

Akansha

I’m Akansha Singh , Content writer on careerjankari.in . Now I’m working with Career Jankari .

Leave a Reply